Browsing Tag

Uttarakhand

संकट में जोशीमठ : जिम्मेदार कौन?

इंद्रेश मैखुरी आधा महीना से अधिक बीत चुका, जबकि जोशीमठ का संकट पूरी दुनिया में चर्चा का विषय बना हुआ है. देश दुनिया के पत्रकारों का जमावड़ा उत्तराखंड के चमोली जिले के इस पहाड़ी शहर में काफी दिनों से दिख रहा है. लगभग…

पहाड़ की वहनीय और सहनीय क्षमता का ध्यान रखें

जोशीमठ के भूधंसाव को अलग-अलग नजरियों से देखा जा रहा है। स्थानीय लोग, वैज्ञानिक और सरकार अपने-अपने तरह से इस मामले को लेकर बातें कह रहे हैं। लेकिन एक कारण जिसे सरकार भी तमाम प्रयासों के बावजूद साफ तौर पर नकार नहीं पा रही है, वह है इस क्षेत्र…

सेलंग गांव : जिसके गर्भ में एक पूरा कस्बा

त्रिलोचन भट्ट प्रसिद्ध गढ़वाली गायक नरेंद्र सिंह नेगी जी का एक गीत हम सब ने सुना है- उत्तराखंड कि धरती यून डमुंन डाम्याली रे, डामुन डाम्यली रे सुरंगुन खैण्याली रे। अर्थात उत्तराखंड की धरती इन्होंने बांधों से दाग दी है और सुरंगों से खोद ली…

जोशीमठ अकेला नहीं दरकने वाला

जोशीमठ के भूधंसाव के बाद इसे लेकर कई तरह की चर्चाएं हो रही हैं। कई भूवैज्ञानिक इस शहर के स्थायित्व के लेकर बात रख रहे हैं कि तमाम टीवी चैनल इन जोशीमठ की दरारों में सनसनी तलाश रहे हैं। जोशीमठ के लोगों पर इन सब बातों का ज्यादा फर्क नहीं पड़…

खंड-खंड होते उत्तराखंड के लिए जिम्मेवार कौन, कहां बसेंगे उजड़े लोग

Raju Sajwan Trilochan Bhatt अक्टूबर का महीना है। आमतौर पर हिमालयी राज्य उत्तराखंड में सितंबर के दूसरे हफ्ते तक बारिश बंद हो जाती है और अक्टूबर की शुरुआत में मानसून विदा हो जाता है। राज्य के प्रमुख शहर जोशीमठ जैसे ऊंचाई वाले…

आपकी नीति दोगली है सरकार

दूर-दूर तक नहीं लगता है कि आप सरकार चला रहे हैं। साफ लगता है कि आप अपने विरोधियों और आपको वोट न देने वालों को सबक सिखाने के लिए सरकार चला रहे हैं। दरकते जोशीमठ के लोग मुख्यमंत्री से मिलने जाते हैं तो इतने बड़े घटनाक्रम को सुनने के लिए सिर्फ…

आओ पहाड़ की मौत का मातम मनाएं

त्रिलोचन भट्ट  आज अंतर्राष्ट्रीय पहाड़ दिवस है। पहाड़ का निवासी होने के नाते सोच रहा था आज पहाड़ को लेकर अच्छा-अच्छा कुछ लिखूंगा। ‘दादू मीं परबतूं कु बासी’ टाइप का कुछ। आसमान का आलिंगन करती पहाड़ की चोटियों के बारे में लिखूंगा, बलखाती…

अभिव्यक्ति की आजादी का हनन, मानवाधिकारों का दमन

विश्व मानवाधिकार दिवस के मौके पर शनिवार को देहरादून में आयोजित एक गोष्ठी में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के हनन और मानव अधिकारों के दमन पर गंभीर चिन्ता जताई गई। हालांकि इस बात पर संतोष भी जताया गया कि देश में सैकड़ों संगठन अपने-अपने स्तर पर इन…

उत्तराखंड में नहीं कानून का राज

यूपी के बाद उत्तराखंड में भी कानून का राज खत्म हो गया है। यूपी की तरह ही उत्तराखंड में भी कानून के राज की जगह बुल्डोजर राज स्थापित किया जा रहा है। नौकरी करने पहाड़ों से उतरे युवाओं की जान ली जा रही है। सरकारी नौकरियों मोटी रकम लेकर बेची जा…

नये सूचना आयुक्तः तपती दुपहरी में ठंडी हवा का झोंका

तीन दशक से जनपक्षीय पत्रकारिता कर रहे, प्रखर राज्य आंदोलनकारी और मेन स्ट्रीम मीडिया से विदाई के बावजूद सोशल मीडिया पर धारदार लेखन करने वाले योगेश भट्ट को राज्य का सूचना आयुक्त बनाया गया है। यह जनपक्ष से जुड़े तमाम लोगों के लिए चौंकाने वाली,…