इस बार नहीं कर पाएंगे बर्फबारी का स्वागत

आने वाले दिनों मे लगातार बारिश और बर्फबारी की संभावना

स बार उत्तराखंड में अब तक अच्छी बर्फबारी नहीं हुई है। निचले क्षेत्रों में अब तक बारिश भी नहीं हुई। लोग लगातार बारिश और बर्फबारी का इंतजार कर रहे हैं। 15 अक्टूबर 2022 के बाद उत्तराखंड के मैदानी क्षेत्र में बारिश नहीं के बराबर हुई है। पर्वतीय क्षेत्रों में 3000 या उससे अधिक ऊंचाई वाली पहाड़ियों पर एक दो बार मामूली बर्फबारी हुई, लेकिन आमतौर पर राज्य में 1800 मीटर तक की ऊंचाई वाली पहाड़ियों पर सीजन में एक या दो बार अच्छी बर्फबारी होती है, जो इस बार नहीं हुई है। जोशीमठ के लोग हर साल बर्फबारी का बेसब्री से इंतजार करते हैं। इस साल भी कर रहे थे, लेकिन हाल के दिनों में अचानक घरों में आई दरारों के कारण अब यहां के लोग डर रहे हैं कि कहीं बर्फबारी न हो जाए।

आने वाले दिनों में उत्तराखंड में लगातार बारिश और बर्फबारी की संभावना बनी हुई है। इस बार बर्फबारी 1800 मीटर तक की पहाड़ियों पर भी हो सकती है। इनमें जोशीमठ भी शामिल है। जाहिर है जोशीमठ के लोगों को इससे काफी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। मौसम विभाग की माने तो 23 से 27 जनवरी तक उत्तराखंड में लगातार बारिश और बर्फबारी का सिलसिला जारी रह सकता है। इससे पहले भी कई जगहों पर बारिश हो सकती है।

दरअसल आने वाले दिनों में दो पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो रहे हैं। पहला विक्षोभ दिल्ली एनसीआर और अन्य मैदानी राज्यों में प्रभाव दिखा सकता है। इसका असर आजम यिनी 19 जनवरी से ही इस राज्यों में हल्की बारिश के रूप में देखा जा सकता है। उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में इस विक्षोभ का कम असर होगा। कहीं-कहीं बहुत मामूली बारिश हो सकती है। लेकिन, दूसरा और बड़ा पश्चिमी विक्षोभ 22 जनवरी को सक्रिय होने की संभावना है, जो 23 जनवरी तक उत्तराखंड पहुंच जाएगा। इस विक्षोभ की सक्रियता के कारण 23 को उत्तराखंड में हल्की बारिश और ऊंचाई वाली पहाड़ियों पर हल्की बर्फबारी की संभावना है। लेकिन, 24 जनवरी के बाद यह विक्षोभ हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड सहित कई जगहों पर पूरी तरह सक्रिय हो जाएगा। इससे ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी और निचले हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती हे। मौसम विभाग ने 23 से 27 जनवरी के लिए उत्तराखंड में ऑरेंज अलर्ट भी जारी किया है।

इस सीजन में बारिश


उत्तराखंड में इस मौसम में हुई बारिश के आंकड़ों पर नजर डालें तो अब तक की स्थिति पूरी तरह निराशाजनक रही है। इस बार राज्य से मानसून कुछ देरी से, अक्टूबर के दूसरे सप्ताह में विदा हुआ था और तब तक लगातार बारिश होती रही थी। इसके बाद अक्टूबर के महीने में कोई बारिश नहीं हुई। नवंबर के महीने में भी उत्तराखंड में बारिश बहुत कम दर्ज की गई। नवंबर में सामान्य रूप से उत्तराखंड में 6.4 मिलीमीटर बारिश होती है, लेकिन इस सीजन में केवल 2 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। यानी कि 69 प्रतिशत कम बारिश हुई। नवंबर में सबसे ज्यादा 5.2 मिलीमीटर बारिश बागेश्वर में और 3.2 मिलीमीटर चमोली जिले में हुई।

दिसंबर के महीने में आमतौर पर उत्तराखंड में विभिन्न जिलों में एक या दो दौर बारिश के होते हैं। लेकिन, इस सीजन में किसी भी जिले में बारिश नहीं हुई। सामान्य तौर पर दिसंबर में राज्य में 14.4 मिलीमीटर बारिश होती है, लेकिन इस सीजन में कहीं भी कोई बारिश दर्ज नहीं की गई। यानी कि सामान्य से शत प्रतिशत कम बारिश। जनवरी की बात करें तो अब तक यानी की 18 जनवरी तक राज्य में सिर्फ 2 मिलीमीटर बारिश हुई है, जबकि सामान्य तौर पर जनवरी के महीने में अब तक 22.5 मिलीमीटर बारिश हो जानी चाहिए थी। यानी कि सामान्य से 91 प्रतिशत कम बारिश अब तक दर्ज की गई है। जनवरी के महीने में देहरादून जिले में सबसे ज्यादा 11.5 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई, जबकि सामान्य रूप से देहरादून में 18 जनवरी तक 23.1 मिलीमीटर बारिश होती है। इस तरह देहरादून में इस महीने अब तक सामान्य से 50 प्रतिशत कम बारिश हुई है।

देहरादून के अलावा राज्य के अन्य सभी जिलों में इस महीने अब तक सामान्य से 80 प्रतिशत से कम बारिश हुई है। बागेश्वर, पिथौरागढ़, पौड़ी और रुद्रप्रयाग में अब तक बारिश हुई ही नहीं है, जबकि अल्मोड़ा, चमोली और नैनीताल में बहुत मामूली बारिश दर्ज की गई है। कुल मिलाकर मॉनसून के बाद से अब तक उत्तराखंड में सिर्फ 4 मिलीमीटर बारिश हुई है।

अब लगातार बारिश

अगले कुछ दिनों के लिए उत्तराखंड के मौसम पूर्वानुमान के बारे में बात करें तो मौसम विभाग के अनुसार उत्तरकाशी, चमोली और पिथौरागढ़ जिलों में आज यानी कि 19 जनवरी को कुछ जगहों पर हल्की बारिश और 3000 मीटर या उससे ऊंची पहाड़ियों पर हल्की बर्फबारी होने की संभावना है। राज्य के अन्य हिस्सों में मौसम शुष्क रहेगा। 20 जनवरी को भी लगभग यही स्थिति बनी रह सकती है, लेकिन बर्फबारी का दायरा कुछ निचले हिस्सों तक में 2500 मीटर तक की ऊंचाई की पहाड़ियों तक उतर सकता है। 21 और 22 जनवरी को धूप-छांव का मौसम बने रहने की संभावना है। 23 जनवरी को एक और पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो जाने से राज्य में सीजन की सबसे बड़ी बारिश होने की संभावना है। मौसम विभाग की ओर से जारी प्रेस नोट के अनुसार 23 जनवरी से शुरू हुआ बारिश का सिलसिला 27 जनवरी तक जारी रहने की संभावना है। 24 और 25 जनवरी को राज्य के ज्यादातर हिस्सों में हल्की बारिश और बर्फबारी हो सकती है। 23, 26 और 27 जनवरी को मध्यम बारिश और बर्फबारी हो सकती है। 23 जनवरी को 3000 मीटर की ऊंचाई तक और उसके बाद लगातार 2500 मीटर और 2000 मीटर तक की ऊंचाई वाली पहाड़ियों पर बर्फ गिरने की संभावना है। मौसम विभाग देहरादून, टिहरी, रुद्रप्रयाग, बागेश्वर के साथ ही पौड़ी, नैनीताल, चंपावत, उधमसिंह नगर और हरिद्वार जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है और इस दौरान लोगों को सावधान रहने की सलाह दी है।

 

सहयोग की अपील

आज जबकि मुख्यधारा का मीडिया दलाली और भ्रष्टाचार के दलदल में है। पोर्टल वालों को सत्ता की तरफ से साफ निर्देश हैं कि सरकारी लाभ पाना है तो सिर्फ सरकार की तारीफ करो। ऐसे में हम ‘सरकार नहीं सरोकारों की बात’ ध्येय वाक्य के साथ बात बोलेगी पोर्टल और यूट्यूब चैनल चलाने का प्रयास कर रहे हैं। इस मुहिम को जारी रखने के लिए हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है।

इस बार कोड को स्कैन कर यथासंभव आर्थिक सहयोग करें।
गूगल पे : 9897268853

Leave A Reply

Your email address will not be published.