केदारनाथ से एवरेस्ट तक जाम

त्रिलोचन भट्ट पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर आए कुछ तस्वीरें बेहद चिंताजनक हैं। एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसका स्क्रीनशॉट आप नीचे देख सकते हैं। यह वीडियो गौरीकुंड से केदारनाथ के बीच का बताया जा रहा है। भौगोलिक स्थिति…

ऑलवेदर रोड बनेगी चारधाम की राह का रोड़ा

दो वर्ष बाद शुरू हुई चारधाम यात्रा की राह इस बार आसान नहीं है। ऑलवेदर रोड के नाम पर सड़क चौड़ी करने के लिए बेतरतीब तरीके से पहाड़ काट दिये गये। ऋषिकेश से श्रीनगर तक करीब 102 किलोमीटर के दायरे में कम से कम दर्जन भर ऐसी जगह हैं, जहां हल्की बारिश…

बिजली के लिए लोहारी गांव को जलसमाधि

बिजली के लिए देहरादून जिले के सुदूरवर्ती लोहारी गांव को बांध के पानी में जलसमाधि दे दी गई है। वह भी गांव वालों को बिना पूरा मुआवजा दिये और बिना उनके रहने की व्यवस्था किये। इस तरह विकास के नाम पर एक और जनजातीय गांव और वहां की अनूठी संस्कृति…

उत्तराखंड: सबसे ज्यादा राजनीतिक अस्थिरता वाले राज्यों में एक

Jaysingh Rawat उत्तराखण्ड की सत्ता में वापसी के लिये जीतोड़ कोशिशें कर रही भारतीय जनता पार्टी के सामने विधानसभा के चुनावी समर में कुछ ऐसे यक्ष प्रश्न खड़े हैं जिनका सही जवाब न मिलने पर धर्मराज युद्धिष्ठर के चार…

सिनलापास जा रहा हूं

Trilochan Bhatt शाम 5 बजे हमें एक जोर की सीटी का स्वर सुनाई दिया। पता चला कि यहां भारत तिब्बत सीमा पुलिस तथा स्पेशल पुलिस फोर्स दोनों का कैंप हंै। दोनों की टीमों के बीच आज वॉलीबाल मैच है। हमें दर्शक के रूप में आमंत्रित किया गया…

2021 : दरकते लोकतंत्र को किसान आंदोलन ने संभाला

Trilochan Bhatt आमतौर में नये वर्ष को लेकर मुझे कोई उल्लास की अनुभूति नहीं होती। मैं जानता हूं, तमाम दूसरे वर्षों की तरह एक और वर्ष बीत गया है और जो आया है, वह भी बीत ही जाना है। शुभकामनाओं का आदान-प्रदान एक औपचारिकता है, सो मेरी…

उत्तरााखंड का इतिहास-5 : हरीश रावत का कार्यकाल

बात बोलेगी के इतिहास बोध स्तंभ में अब तक उत्तराखंड के इतिहास के चार खंड प्रकाशित किये जा चुके हैं। पहले तीन खंडों में प्राचीन काल से राज्य स्थापना तक की प्रमुख बातों को संकलित किया गया है। चौथे खंड में राज्य स्थापना से लेकर विजय बहुगुणा के…

ऐसे में कैसे होगा रिवर्स पलायन

  Harsh Vardhan Bhatt इस लेख के लेखक कई नामी प्राइवेट कंपनियों में उच्च पदों पर कार्य करने के बाद सेवानिवृत्त हो चुके हैं। वापस गांव आकर रहने की इच्छा है, लेकिन आने की हिम्मत नहीं कर पा रहे। आखिर क्यों? इस लेख में…

हर समझदारी वाली बात का विरोध

Trilochan Bhat पेड़ काटे जाने से भला किसे ऐतराज न होगा। अच्छा तो यह होता कि यदि किसी विकास कार्य में कोई पेड़ आड़े आ रहा होता तो उसका विकल्प तलाशा जाता है, लेकिन ऐसा हो नहीं रहा है। अदालती आदेश हैं कि जितने पड़े किसी योजना के लिए काटे…