बिजली बना सकता है हमारा दिमाग

प सभी तो जानते ही होंगे की हमारा शरीर बिजली का परी वाही है | हमारे शरीर आसानी से बिजली कोंध कर जमीन कर अंदर चली जाती है | इसी कारण से हर कोई बिजली से थोड़ी दूरी बना कर रहते हैं |

अगर यहाँ हम आपको कहेंगे की हमारी दिमाग एक निर्दिष्ट मात्रा का बिजली खुद बनती है तो क्या आप इसे हकीकत मानेंगे ! अगर आपका जवाब ना है तो सुनिए | हमारी दिमाग अपने Neuron के वजह से 23 watt की  बिजली पैदा कर सकती है |

इसके अलावा हमारे शरीर के ऑक्सिजन की कुल खपत का 20% हिस्सा दिमाग का ही है | 8 सेकंड से लेकर10 सेकंड तक अगर हमारे दिमाग को ऑक्सिजन नहीं मिलेगी तो हमारा दिमाग बेहोश हो कर degenerate होना शुरू कर देगा |

लाऱ (Saliva )

हमारे खाने को चबाने और हजम करने में saliva का बहुत बड़ा हाथ होता है | अगर saliva हमारे मुंह के अंदर न होता तो खाना को ग्रहण करने की तो क्या इसे देखने का हिम्मत भी नहीं कर पाते | दोस्तों हमारे शरीर में 3 प्रकार के Salivary Gland होती हैं जिससे यह Saliva हमारे मुंह में आता है | saliva का काम होता है की यह खाने के निवालों को भिगो कर bolus के रूप में परिणत करता है  | प्रतिदिन हमारे मुंह में करीब करीब 1 लिटर तक saliva बनता है |

हमारी नसें 

दोस्तों हमारे शरीर के अंदर जो नसें है इन सभी की लंबाई को अगर हम एक साथ जोड़ दें तो यह पृथ्वी को 4 बार लिपट कर भी बच जाएगा | क्या बात है ! यह तो वाकई में अद्भुत बात है |

हमारा शरीर हमें चमकदार बनाता है 

सूर्य से ज्यादा चमकदार चीज़ इस सौर मंडल में कोई दूसरा नहीं है | परंतु दोस्तों यहाँ हम आपको थोड़ा विचार करने के लिए कहेंगे | हमारी शरीर भी सूर्य से आने बाली कुछ मात्रा में रोशनी को प्रतिफलित करती है | हालांकि यहाँ आपको ध्यान में रखना होगा की शरीर से द्वारा प्रतिफलित आलोक की मात्रा बहुत ही कम होता है | इसलिए हम इसे खुले आँखों से तो नहीं देख सकते |

हमारी त्वचा 

मित्रों त्वचा हमारे शरीर का सबसे ज्यादा वजनी हिस्सा होता है | आम तौर पर एक मनुष्य के त्वचा का वजन 8 K.g से 11 K.g तक हो सकता है | और एक त्वचा के बारे में अनोखी बात है की यह हर साल 4 K.g तक अपने cell को Replace करता है |

Stimuli / आवेग 

यहाँ हम कोई physics के आवेग की बात नहीं कर रहे | यहाँ हम बात कर रहें हैं शरीर के आवेगों का | क्या आप जानते है की हमारे शरीर में बहने वाली आवेग की गति 400 Kmph तक होता है | इतनी तेजी से तो शायद ही कोई और चीज़ शरीर के अंदर दौड़ती होगी !

हमारी नाक 

जब हम नाक की बात करते हैं तो जाहिर सी बात है की हमारा ध्यान अपने  नाक के ऊपर ही जाएगा | हमारा नाक बहुत ही खास होता है | समाज में तो नाक की अहमियत तो होती ही है पर शरीर के लिए भी इसका महत्व कम नहीं है | हमारे नाक के अंदर बहुत सारे olfactory lobes होती है , जो की हमें एक Trillion से  भी ज्यादा गंध को सूंघने में हमारी मदद करता है |

 

विज्ञानम से साभार

Leave A Reply

Your email address will not be published.